Mahavir Mandir
MS Logo
BIHAR
line decor

दासोsहं कोसलेन्द्रस्य रामस्याक्लिष्टकर्मणः। हनूमान् शत्रुसैन्यानां निहन्ता मारुतात्मजः।।

    
line decor
 
 
 
 
  • Tulasi Jayanti, 2015

     

    Tulasi Jayanti, 2015
    Garland Offering to the idol of Tulasidasji
         

    आज दिनांक 22 अगस्त, 2015 को महावीर मन्दिर परिसर में गोस्वामी तुलसीदासजी की जयन्ती के अवसर पर अपराह्ण 4 बजे से कार्यक्रम का आयोजन किया। इसका प्रारम्भ मन्दिर के श्री रामकिशोर दासजी के द्वारा गाये गये मंगलाचरण से हुआ। इसी कार्यक्रम में श्री गजेन्द्र महाराजने तुलसीदासजीकी श्रीराम के प्रति अनन्या भक्ति से सम्बन्धित विनय-पत्रिका के पद जाके प्रिय न राम वैदेही का गायन किया। इस कार्यक्रम में डा. अशोक कुमार अंशुमाली ने तुलसीदास के विराट् व्यक्तित्व और कृतित्व पर विस्तार से चर्चा करते हुए कहा कि गोस्वामीजी आज भी प्रासंगिक हैं। उन्होंने समाज को एकसूत्र में जोडने का जो कार्य भक्ति के माध्यम से किया आज भी उसकी आवश्यकता है। पं. मार्कण्डेय शारदेय ने कहा कि तुलसी समाज की महत्ता को पहचानते थे। उन्होंने जो कार्य किया, वह आज भी स्मरणीय है। डा. मिथिलेश कुमारी मिश्रा ने कहा कि तुलसी ने धार्मिक समन्वय की स्थापना कर समाज को राममय बनाने के साथ साथ साथ सर्वधर्मसमभाव की चर्चा की। उन्होंने शिव और विष्णु को एक धरातल पर ला दिया। उनके शिव भी रामोपासक हैं औ उनके राम भी परम शिव भक्त है। इस कार्यक्रम का संचालन महावीर मन्दिर के प्रकाशन एवं शोध प्रभारी प. भवनाथ झा ने किया।

  • World's largest Hindu temple
    Viraat Ramayan Mandir

    The grand project

    of

    Mahavir Mandir,

    Patna