Ramanavami, 8 April, 2014

This time the Ram Navami falls on a Tuesday on 8th April, 2014. After seven years the Ram Navami is again falling on Tuesday. Because of the combination of Ram Navami and Tuesday the number of devotees is likely to swell considerably. Mahavir Mandir Trust has taken certain measures to make proper arrangement on the Ram Navami day.

In Mahavir Mandir one has to come in queue if he carries ‘prasad’ or ‘garland’ in his hand. But if some one moves empty handed, he will not stand in line. The problem is that most of the devotees are obsessed with the offering of Naivedyam, particularly on the Ram Navami day. It takes a devotee hours to reach Hanumanji’s temple.

On the suggestion of some devotees it is decided that those devotees who will purchase a coupon for the construction of one sq. ft. or more will get one kilo of Naivedyam prasad after having been offered to Hanumanji and a book Maruti Stuti. A coupon for the construction of One sq. ft. costs Rs. 7,707/- (Rupees seven thousand seven hundred and seven). Swami Swaroopanand Saraswati, Jagadguru Shankaracharya of Dwarka Peeth has blessed the project by purchasing 11 coupons initially.

Devotees will be given prasad of Naivedyam and the book on the Ram Navami day between 3 P.M. to 7 P.M. and again from 9 P.M. to 11 P.M. from the office counter which can be approached from the southern entrance (railway side) of the temple.

This arrangement is likely to help senior citizens who have been requesting to make some special arrangement for them. It is done on experiment basis for this year. If it succeeds, it will continue in future, otherwise it will be stopped. Coupons are available in Mahavir Mandir premises or any branch of Allahabad Bank.

प्रेस विज्ञप्ति

महावीर मन्दिर में रामनवमी की व्यवस्था

श्रीरामनवमी का पावन पर्व मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम के शुभ जन्म के उपलक्ष्य में मनाया जाता है। पूरे देश में अयोध्या स्थित हनुमान गढ़ी के बाद रामनवमी के दिन महावीर मन्दिर पटना में श्रद्धालुओं की संख्या सबसे अधिक होती है इस एक दिन श्रद्धालुओं की संख्या तीन से पाँच लाख तक हो जाती है। इस वर्ष महावीर मन्दिर में रामनवमी 08 अप्रैल, 2014 को मनायी जायेगी। इस वर्ष रामनवमी मंगलवार के दिन पड रही है, अतः स्वाभाविक रूप से अन्य वर्षों की अपेक्षा भीड बढने की संभावना है।

इस वर्ष चूँकि पुलिस प्रशासन संसदीय चुनाव में व्यस्त है अतः पुलिस बल की उपस्थिति नगण्य रहेगी जिसके कारण श्रद्धालुओं की भीड को नियन्त्रित करने में मन्दिर प्रबन्धन को कठिनाई का सामना करना पड रहा है। हलाँकि निजी सुरक्षा-कर्मियों तथा स्वयंसेवी संगठनों के लगभग 300 जवानों को इस कार्य पर लगाया गया है फिर भी इसे पर्याप्त नहीं कहा जा सकता है। फिर भी महावीर मन्दिर में श्रद्धालुओं के लिए विशेष व्यवस्था की गयी है, इसका सारांश नीचे दिया जा रहा है-

मन्दिर का पट्ट 2 बजे भोर में खोल दिया जायेगा और 12 बजे रात्रि तक पूरे 22 घंटा खुला रहेगा।

महावीर मन्दिर में जो प्रसाद, माला आदि चढ़ाना चाहते हैं, उन्हें पंक्तिबद्ध होकर उत्तरी द्वार से प्रवेश करना होगा। मन्दिर के उत्तरी द्वार से जी.पी.ओ. गोलम्बर तक घेराबंदी कर छाया की व्यवस्था की गयी है। इसमें दो कतारें एक पुरुषों के लिए तथा दूसरी महिलाओं के लिए बनायी गयी है। जी. पी. ओ. गोलम्बर के बाद यह पंक्ति सीधे पश्चिम दिशा में आर. ब्लाक चौराहा की ओर जायेगी। पंक्ति की लम्बाई अधिक हो जाने के कारण भक्तों से आग्रह है वे स्वविवेक से पंक्तिबद्ध होकर आयें। हमलोग जी.पी.ओ. गोलम्बर के पास का पार्क पंक्तिबद्ध होने के आरम्भ-स्थल के रूप में लेना चाह रहे हैं। जब यह सुनिश्चित हो जायेगा तब भक्तों को सूचना दी जायेगी।

केवल दर्शन करनेवाले भक्तों के लिए (जिनके पास प्रसाद या माला नहीं होगी) 7 बजे प्रातः से दर्शन सुलभ होगा। वे पूरबी प्रवेश द्वार से पंक्तिबद्ध होकर परिसर में प्रवेश करेंगे।

प्रत्येक वर्ष की तरह मन्दिर प्रबन्धन के द्वारा मन्दिर के उत्तरी द्वार से जी.पी.ओ. गोलम्बर तक गर्मी से बचाव के लिए छाया की व्यवस्था की गयी है। पुरुषों एवं महिलाओं की अलग-अलग समानान्तर पंक्तियाँ जी. पी. ओ. तक जायेगी। उनकी सुविधा के लिए जी.पी.ओ. गोलम्बर तक पण्डाल बनाये गये हैं, जिसमें पंखे भी लगे रहेगें। शरबत एवं पानी की व्यवस्था जगह जगह पर यथेष्ट रूप से की गयी है।

पण्डाल के अन्दर क्लोज सर्किट टी.वी. पर मन्दिर के भीतर का दृश्य दिखाई पड़ेगा, जिसस पंक्तिबद्ध हुए भक्तों को विग्रह के दर्शन के साथ-साथ पंक्ति की त्वरित गति का आभास होता रहेगा। ऐसे 10 टी.वी. सेट और प्रोजेक्टर लगाये गये हैं।

भक्तों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए अतिरिक्त 8 पुजारी अयोध्या से बुलाये गये हैं। मन्दिर में उस दिन चार पुजारी प्रसाद चढ़ाने के लिए सदैव उपस्थित रहेंगे।

जो भक्त हनुमानजी का दर्शन कर भू-तल से ही वापस जाना चाहेंगे, वे पूर्वी निकास द्वारा से बाहर निकलेंगे। जो भक्त द्वितीय एवं तृतीय तल पर जायेंगे, उन्हें ऊपर से नीचे जाने के लिए दक्षिण की ओर राम-जानकी मन्दिर के ऊपर से सीढ़ी से उतर कर स्टेशन की ओर बाहर निकलने की सुविधा होगी।

मन्दिर की ओर से स्वयंसेवक, सुरक्षाकर्मी श्रद्धालुओं को पंक्तिबद्ध होने तथा पंक्ति को सुव्यवस्थित करने के लिए तैनात किये गये हैं। इसके अतिरिक्त स्थानीय पुलिस प्रशासन की भी व्यवस्था की गयी है। मन्दिर-परिसर के बाहर दो प्राथमिक उपचार केन्द्र एवं एम्बुलेंस की व्यवस्था है, ताकि श्रान्त, क्लान्त भक्त को तुरत राहत दी जा सके।

नैवेद्यम् लड्डू की बिक्री हेतु मध्य-रात्रि से 8 काउन्टर बाहर लगाये जायेंगे। मन्दिर के भीतर का स्थायी काउन्टर उस दिन तब तक बन्द रहेगा, जबतक भक्तों की कतार मन्दिर के बाहर रहेगी। फिर भी सन्ध्या में मन्दिर के भीतर का नैवेद्यम् काउण्टर खुलने की संभावना है।

मन्दिर में दिन के 12 बजे से श्रीरामजी का जन्मोत्सव मनाया जायेगा। इस पूजा के बाद तीनों ध्वज बदले जाएंगे। इसके बाद जन्मोत्सव आरती होगी, उसके बाद इस अवसर पर निर्मित विशिष्ट ‘रोट-प्रसाद का वितरण होगा।

जो जुलूस लेकर मन्दिर में सन्ध्या के समय आते हैं उनसे आग्रह है कि वे 7 बजे सन्ध्या से 9 बजे के बीच न आवें, क्योंकि यह आरती का मुख्य समय है।

व्यक्तिगत रूप से हनुमानजी के ध्वज की पूजा करने की अनुमति नहीं दी गयी है। यदि बहुत आवश्यक हो तो वे मन्दिर कार्यालय में दिनांक 07 अप्रैल की सन्ध्या तक ध्वज-पूजन के लिए शुल्क जमा कर सकते हैं। रामनवमी के दिन सत्यनारायण भगवान् की पूजा मन्दिर में करने की अनुमति नहीं दी जायेगी।

रामचरितमानस का नवाह पाठ जो कलश-स्थापना के साथ दिनांक 31-03-2014 को प्रारम्भ हुआ रामनवमी के दिन समाप्त हो जाएगा और रात्रि 8.30 में हवन के साथ समापन होग

मन्दिर की ओर से भक्तों की सुविधा के लिए हर सम्भव प्रयास किया जा रहा है। भक्तों से अनुरोध है कि व्यवस्था में पूर्ववत् सहयोग करते रहें।

(किशोर कुणाल)
सचिव


Press Release

The festival of Shri Ramnavami is celebrated on the auspicious occasion of the birth of Lord Shri Ram. After Hanuman Gadhi at Ayodhya, Mahavir Mandir, Patna is visited by the highest number of devotees on the Ramanavami. This year Ramnavami will be celebrated on Tuesday 08th April, 2014. This year since the Ramanavami falls on Tuesday, (8th April, 2014) the number of devotees will be increased considerably.

Since the local police is engaged in ensuring parliamentary poll, the temple is going to negligible police presence the temple management is facing serious problem of regulating devotees. Although it is deploying 300 men from private securities and NGOs it may not be adequate. However, the following arrangements are made for better recognition.

(i) The temple will be opened at 02.00 A.M. and will remain open till 12.00 midnight.

(ii) Those who will carry ‘Prasad’ (laddoos etc.) and garlands will have to come in queue from north gate and those who come for mere ‘darshan’ of the deity will just walk in the temple in queue but after 7.00 A.M. from the eastern gate, so that there is more concentration on the devotees with prasad, who stand in queue for hours.

(iii) Like every year this year, too, the Mandir Management has made elaborate arrangements for providing shades for protection from heat from the temple north gate to the G.P.O. Thereafter the queue will go towards R. Block. Here we are trying to get the Park near the G.P.O. for making it the beginning point for the devotees. When it is confirmed, we will inform accordingly.

(iv) There will be 10 C.C.T.Vs. and projectors in the pandal, so that the devotees in the queue will have the darshan of the deity and will see the pace of offerings in the temple.

(v) There will be adequate arrangement for ‘sharbat’ and water. Two first aid centres and ambulances will be available for providing medical help in any un-foreseen case of eventuality.

(vi) For those who want to come out after of the “darsan” of Hanumanji only, the exit will be the eastern gate and for others it will be in the south towards railway station.

(vii) For expeditious offering of the ‘prasad’ in the temple eight additional priests have come from Ayodhya and at least four priests will always be available in the sanctum sanctorum of the temple all the time.

(viii) There will be no counter for “Naivedyam” inside the temple premises till the queue is outside temple. All 8 counters will be outside the temple premises during that period. However, in the evening Naivedyam counter will be open within the temple premises.

(ix) Janmotsava (birth- celebration) of Lord Ram will be celebrated at 12.00 noon and the Mahaviri flags will be changed and ‘arati’ will be performed at the time.

(x) ‘Pongal’ and ‘Rot prasad’ will be offerd to Hanumanji and all deities in the temples at 12:00 hrs.

(xi) The nine-day recital (navah-path) will end and havan will be performed on 08th April, 2014 at 10:00 P.M.

The temple management makes an appeal to devotees to extend all co-operations to the Temple Management for smooth and peaceful conclusion of this pious celebration by coming in the queue.

(Kishore Kunal)
Secretary.