महावीर मन्दिर में अनुष्ठान की प्रिक्रिया

यह एक ऐसा मन्दिर है जहाँ भक्त निश्चित शुल्क के भुगतान पर अनुष्ठान पूरा करने के लिए सभी सामग्री प्राप्त करते हैं और पुरोहितों को 'दक्षिणा' का भुगतान मन्दिर प्रबंधन द्वारा किया जाता है।
Mahavir Mandir Pooja & Archana

( नोट - निम्नलिखित कर्मकाण्डों में यजमान की उपस्थिति अनिवार्य है, और भुगतान केवल मंदिर के कैश काउंटर से स्वीकार किया जाएगा। )


श्रीरुद्राभिषेक - ₹ 1001.00


विशेष रुद्राभिषेक ( अनुष्ठान तीन घंटा ) - ₹ 5100.00


रुद्राभिषेक - विशेष दिन ( सावन एवं शिवरात्रि ) - रामजानकी मन्दिर के बंगल में (नीचे) - ₹ 1001.00


रुद्राभिषेक - विशेष दिन ( सावन एवं शिवरात्रि ) - प्रत्येक सोमवार एवं चतुर्दशी तिथि (ऊपरी मंजिल पर) - ₹ 1501.00


रुद्राभिषेक - विशेष दिन ( सावन एवं शिवरात्रि ) - हनुमानजी के बंगल में - ₹ 1501.00


रुद्राभिषेक - विशेष दिन में (ऊपरी मंजिल पर) - ₹ 2100.00


सत्यनारायण कथा - ₹ 1001.00


हनुमत्-पूजन - ₹ 1001.00


रामार्चा-पूजन - ₹ 1001.00


बृहद्-मनोकामना यज्ञ - ₹ 5001.00


जन्म-मंगलानुष्ठान - ₹ 501.00


ग्रहशान्ति हवन - ₹ 501.00


रोगशन्ति हवन - ₹ 501.00


विशेष हवन - ₹ 501.00


मुण्डन - ₹ 501.00


Mahavir Mandir Jaap And Path

( नोट - निम्नलिखित कर्मकाण्डों में यजमान की उपस्थिति अनिवार्य है, और भुगतान केवल मंदिर के कैश काउंटर से स्वीकार किया जाएगा। )


महामृत्युंजय जप - ₹ 251.00 (प्रति हजार)


अन्य ग्रहमन्त्र जप ( केवल वैदिक मंत्र ) - ₹ 251.00 (प्रति हजार)


सन्तान-गोपाल-मंत्र जप - ₹ 251.00 (प्रति हजार)


सुन्दरकाण्ड रामचरितमानस (पाठ) - ₹ 505.00 ( एक पाठ )


सुन्दरकाण्ड वाल्मीकि-रामायण - ₹ 1500.00 ( एक पाठ )


हनुमानचालीसा पाठ ( न्यूनतम 108 ) - ₹ 751.00 ( 108 पाठ )


श्रीदुर्गासप्तशती ( सामान्य पाठ ) - ₹ 501.00 ( एक बार )


श्रीदुर्गासप्तशती ( संपुट पाठ ) - ₹ 1001.00 ( एक बार )


श्रीरामरक्षा-स्तोत्र पाठ ( न्यूनतम 5 ) - ₹ 505.00 ( 5 पाठ )


कलश-स्थापना ( नवरात्र में ) - ₹ 5100.00 ( प्रति कलश )


रामावत सम्प्रदाय में दीक्षा - ₹ 51.00


Mahavir Mandir Vahan Pooja

( नोट - निम्नलिखित कर्मकाण्डों में यजमान की उपस्थिति अनिवार्य है, और भुगतान केवल मंदिर के कैश काउंटर से स्वीकार किया जाएगा। )


वाहन-पूजा - साइकिल, रिक्शा आदि - ₹ 25.00


वाहन-पूजा - दो चक्का, मोटर साइकिल - ₹ 101.00


वाहन-पूजा - तीन चक्का एवं उससे अधिक - ₹ 251.00


Mahavir Mandir Kundali Nirman & Jyotish Pramarsh

( नोट - निम्नलिखित कर्मकाण्डों में यजमान की उपस्थिति अनिवार्य है, और भुगतान केवल मंदिर के कैश काउंटर से स्वीकार किया जाएगा। )


ज्योतिष परामर्श-शुल्क - हस्तरेखा अथवा जन्म-कुण्डली परीक्षण - ₹ 151.00


कुण्डली निर्माण - गणना ₹ 150.00


कुण्डली निर्माण - वर-वधू-कुण्डली मिलान - ₹ 150.00


कुण्डली निर्माण - भविष्यवाणी के साथ ( 18 वर्ष से कम उम्र के लिए ) - ₹ 350.00


कुण्डली निर्माण - भविष्यवाणी के साथ ( हिंदी में ) - ₹ 400.00


instruction

Satya-Narayan-Puja ( Detailed )

It may be mentioned that the worship of Lord Satya-Narayan is the most popular amongst all the modes of worship offered to Lord Visnu. The Skand and the Bhavisya Puranas contain the importance and methodology of performing worship of Lord Satya-Narayan. The most appropriate book for details of methodology and mythology of this worship is Bhavisya Puran, which deals with this subject in its main text, whereas the Skanda Puran mentions its substitute in the appendix of its eastern version only. Here it may be mentioned usefully for the information of the devotees that two kinds of worship of Lord Satya-Narayan are being arranged in Mahavir Mandir, the one that may be called traditional, and another is known as Brihad (detaileds) Satya-Narayan-puja. The later one is special in the sense that this can't the performed by a lay priest rather it requires a bit of specialization. Since it is not possible for a common devotee to identify and collect puja materials himself, as also there is dearth of Pandit i-e the priest having expertise in such a Puja, Mahavir Mandir provides puje materials and a well-versed priest. On payment of a nominal fee, the devotee informed the date and time of so that he/ she may turn up in time of Satya-Narayan-Puja (detailed) to perform the ritual, which may spread over nearly two hours

Ramarcha

Ramarcha in Mahavir Mandir is performed in accordance with the “Ramrchana-paddhati” an authentic book written by Ramanandacharya. Here it is so devotion oriented and less-offering oriented and the fees are so normal that many people doubt that it is really the true Ramarcha. But our ritual is perfect and far better than that prevalent in other temples and institutions where devotees are fleeced in the name of rituals.