Procedure of Ramavat Sangat at Mahavir Mandir

रामावत संगत में दीक्षा हेतु निर्देश

महावीर मन्दिर, पटना के तत्त्वावधान में स्थापित रामावत संगत के अन्तर्गत दीक्षा लेने के लिए मन्दिर से प्रकाशित पुस्तिका का सर्वप्रथम अध्ययन करें।

हमारे वेबसाइट से Form Download कर उसे भरकर हमारे email : mahavirmandir@gmail.com पर प्रेषित करें।

फार्म के पंजीयन की सूचना आपको ईमेल से दे दी जायेगी।

मन्दिर के द्वारा बीच-बीच में कार्यक्रम आयोजित कर इसके सम्बन्ध में अधिक जानकारी देने के लिए संगोष्ठी की भी व्यवस्था की गयी है, जिसकी सूचना आपको फार्म में दिये गये फोन. न. पर दी जायेगी।

दीक्षा के लिए शुभ दिन निकालकर आपको फोन, वेबसाइट अथवा फेसबुक आदि के द्वारा  सूचना दी जायेगी।

दीक्षा के लिए निश्चित दिन से एक दिन पूर्व सन्ध्या में दिये गये दूसरे फार्म को भरकर निर्धारित शुल्क 501.00 जमा करें। यही राशि मन्दिर को दी गयी दक्षिणा की राशि है।

इसके बाद, सन्ध्या आरती में सम्मिलित हों तथा आरती के बाद हनुमानजी के समक्ष रखी हुई थाल, जिसमें कागज में बँधे मन्त्र होंगे, हाथ में लेकर पुस्तिका की पृष्ठ संख्या 5 पर अन्त में लिखे गीता के निम्नलिखित श्लोक का पाठ कर संकल्प लें तथा हनुमानजी का स्मरण करते हुए उसे मन्दिर के पुजारी को दे दें।

प्रातःकाल मन्दिर में आकर हनुमानजी की पूजा करें तथा पुजारी से वह थाल माँगकर हनुमानजी का स्मरण करते हुए एक मन्त्र चुन लें। जो आपको अपने हाथ में लेंगे, वही भगवत्कृपा से आपका गुरु मन्त्र होगा।

इस मन्त्र को लेकर मन्दिर के पण्डित श्री जटेश झा अथवा तत्काल उपलब्ध पण्डितजी से मिलें। वे आपको उस मन्त्र की जपविधि उच्चारण आदि सिखा देंगे।

किसी प्रकार की असुविधा होने पर सम्पर्क करें-

पं. श्री जटेश झा- 9934718288

पं. श्री भवनाथ झा- 9430676240