श्रीरंजन सूरिदेव

Dr. Shriranjan Suridev

साहित्यवाचस्पति श्रीरंजन सूरिदेव

  • डॉ० श्रीरंजन सूरिदेव
  • जन्म : 28 अक्टूबर, 1926 ई०
  • देहावसान : 11 नवम्बर, 2018 ई.
  • जन्मस्थान : शुम्भेश्वरनाथ धौनी, जिला-दुमका (झारखण्ड)

शैक्षिक उपाधियाँ

  • एम०ए०़, (त्रय- हिन्दी, संस्कृत एवं प्राकृत-जैनशास्त्र) स्वर्णपदक प्राप्त, बिहार विश्वविद्यालय, मुजफ्फरपुर
  • साहित्य, आयुर्वेद, पुराण, पालि और प्राकृत-जैनशास्त्र में आचार्य (कामेश्वर सिंह दरभंगा विश्वविद्यालय, दरभंगा एवं वाराणसेय, अब सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय, वाराणसी)
  • व्याकरणतीर्थ (बंगाल संस्कृत समिति, कलकत्ता)
  • साहित्यरत्न (हिन्दी-साहित्य सम्मेलन, प्रयाग)।

शोधकार्य

  • ‘वसुदेवहिण्डी: भारतीय जीवन और संस्कृति की बृहत्कथा’ नामक प्रकाशित शोध-प्रबन्ध (पी-एच०डी० के लिए प्रस्तुत विषय का मूलनाम – ‘वसुदेवहिण्डी : एक आलोचनात्मक अध्ययन।

साहित्यिक जीवन का प्रारम्भ : सन 1945 ई०

प्रथम रचना (निबन्ध) आचार्य शिवपूजन सहाय द्वारा सम्पादित ‘बालक’ (मासिक) में ‘मन्दारपर्व’ नाम से प्रकाशित।

प्रकाशित पुस्तकें

  1. गीत-संगम’
  2. बहुत है (काव्य-संग्रह)
  3. मेघदूत : एक अनुचिन्तन
  4. प्राकृत संस्कृत का समानान्तर अध्ययन
  5. वसुदेवहिण्डी : भारतीय जीवन और संस्कृति की बृहत्कथा’ (आलोचना)
  6. बिहार के स्मृति-पुरुष’ (बिहार के सत्रह कूटस्थ साहित्यसेवियों के संस्मरणों का संग्रह):
  7. सांस्कृतिक निबन्ध-कोश (निबन्ध-संग्रह)
  8. अहिंसा, अपरिग्रह और अनेकान्त’ पर तीन व्याख्यानों का संग्रह
  9. हिन्दी के विकास में पत्रकारिता की भूमिका।

बालोपयोगी कथाओं के आठ संग्रह

  1. आटे का मुरगा
  2. आसमानी घोड़ा
  3. चित्रकार की बेटी
  4. पिटारी की रानी
  5. काठ की तलवार
  6. बैताल का बदला
  7. अनमोल माला
  8. चार पापी
  9. अक्षर-भारती (संस्कृत-गद्य-पद्य संग्रह) दिल्ली संस्कृत अकादमी द्वारा पुरस्कृत)

अनूदित पुस्तकें

  1. वसुदेवहिण्डी (प्राकृत से हिन्दी)
  2. अगडदत्तकहा (प्राकृत से हिन्दी)
  3. धूर्ताख्यान (प्राकृत से हिन्दी)
  4. उपासकदशासूत्र (सप्तम जैनांग : प्राकृत से हिन्दी)
  5. सिंहासनबत्तीसी तथा वेतालपचीसी (संस्कृत से हिन्दी)

सम्पादित प्रमुख पुस्तकें

  1. जीवन-दर्पण (आचार्य शिवपूजन सहाय की दैनन्दिनी : का प्रथम खण्ड)
  2. स्मृतिशेष आर्यपुरुष : पं० रामनारायण शास्त्री (स्मृति-ग्रन्थ)
  3. पाटलिपुत्र की धरोहर : रामजी मिश्र मनोहर’
  4. कृष्णकुमार विद्यार्थी : व्यक्तित्व और कृतित्व (अभिनन्दन-ग्रन्थ)
  5. तुलसीदलम् (राम-साहित्य से सन्दर्भित निबन्धों का संकलन)
  6. पुण्यस्मरण (देशरत्न डॉ राजेन्द्र प्रसाद का उनके ज्येष्ठ पुत्र श्री मृत्युंजय प्रसाद द्वारा लिखित संस्मरण)।

मानद उपाधियाँ

  1. साहित्यवाचस्पति (हिन्दी साहित्य सम्मेलन, प्रयास)
  2. साहित्यमार्तण्ड (कला, संस्कृति साहित्य विद्यापीठ, मथुरा)
  3. साहित्यमार्तण्ड (प्रबुद्ध सांस्कृतिक मंच, पटना)
  4. साहित्यरत्न (हिन्दी-साहित्य सम्मेलन, बीकानेर)
  5. विद्याविभूषण (भाषा-भारती, पटना)
  6. वाङ्मयरत्न, (साहित्यकार-संसद्, समस्तीपुर)
  7. सांस्कृतिक सौरभ (रंगमंच, पटना) आदि।

कार्य

  1. व्याख्याता, प्राकृत-शोध-संस्थान, वैशाली
  2. उपनिदेशक (शोध) एवं सम्पादक परिषद् पत्रिका, बिहार राष्ट्रभाषा परिषद, पटना।

पत्रिकाओं का सम्पादन

  1. साहित्य’ (त्रैमा०), बिहार-हिन्दी साहित्य सम्मेलन, पटना का मुखपत्र (सम्पादक : आचार्य शिवपूजन सहाय और आचार्य नलिन विलोचन शर्मा का सहकारी)
  2. परिषद-पत्रिका, शोध-त्रैमासिक बिहार-राष्ट्रभाषा-परिषद, पटना
  3. धर्मायण, महावीर मन्दिर, पटना
  4. शिखा संकेत पटना
  5. ब्रह्मज्योति वाराणसी
  6. चक्रबन्धु, वाराणसी।

संस्था सहयोग

  1. आचार्य शिवपूजन सहाय स्मारक न्याय के न्यासी सदस्य
  2. भारतीय अन्तर्देशीय जलमार्ग प्राधिकरण (भूतल परिवहन मन्त्रालय, भारत सरकार) को पटना-शाखा की क्रियान्वयन समिति के विशिष्ट परामर्शदाता।
  3. हिन्दी शब्दनिधि’ नामक हिन्दी-कोश का सम्पादन कार्य

महावीर मन्दिर से प्रकाशित धर्मायण पत्रिका के लिए यह गौरव का विषय है कि श्रीरंजन सूरिदेव जैसे विद्वान् इसके सम्पादक रहे हैं। पत्रिका-परिवार की ओर से उनका नमन।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *